Anganwadi Bharti 2023 | आंगनबाड़ी केंद्रों में आठवीं पास के लिए निकली सीधी भर्ती

आंगनबाड़ी केंद्रों में कार्यकर्ता, मिनी कार्यकर्ता और सहायिका पद एक सरकारी योजना हैं, जिनके तहत स्थानीय स्तर पर शिशु एवं माता की सेवाएं प्रदान की जाती हैं। यह योजना गरीबी रेखा से नीचे के लोगों को लक्ष्य बनाती है और उन्हें संबंधित सेवाओं के लिए अधिकृत लोगों की मदद करती है।

आंगनबाड़ी केंद्रों में कार्यकर्ता, मिनी कार्यकर्ता और सहायिका पद उन लोगों के लिए होते हैं, जो इन सेवाओं को प्रदान करने में शामिल होना चाहते हैं। यदि आप इन पदों के लिए आवेदन करना चाहते हैं तो आपको स्थानीय आंगनबाड़ी केंद्रों, सरकारी वेबसाइटों और रोजगार समाचार पत्रों की जांच करनी चाहिए।

कार्यकर्ता एक आंगनवाड़ी केंद्र का प्रमुख होता है, जो आंगनवाड़ी केंद्र के कार्यक्रमों को प्रबंधित करता है। उन्हें बच्चों की देखभाल, स्वास्थ्य और पोषण के लिए जिम्मेदारी होती है।

मिनी कार्यकर्ता आंगनवाड़ी केंद्रों में कार्यकर्ताओं की मदद करती हैं और उन्हें बच्चों और मांओं के साथ संबंध बनाने में मदद करती हैं।

सहायिका एक औपचारिक नाम है, जो आंगनवाड़ी केंद्र में नौकरी करने वाली लघु कार्यकर्ता के लिए प्रयोग किया जाता है। उन्हें बच्चों और मांओं की देखभाल और स्वास्थ्य से संबंधित अन्य कार्यों के लिए जिम्मेदारी होती है।

Teachers are the pillars of a nation.

आंगनवाड़ी केंद्रों में कार्यकर्ता, मिनी कार्यकर्ता और सहायिका पदों पर जॉब करने के फायदे क्या है ?

आंगनवाड़ी केंद्रों में कार्यकर्ता, मिनी कार्यकर्ता और सहायिका पदों का काम समाज के विभिन्न वर्गों के बच्चों और महिलाओं की सेवा में होता है। इन पदों पर जॉब करने के कुछ फायदे निम्नलिखित हो सकते हैं।

सामाजिक सेवा: यह काम सामाजिक सेवा का हिस्सा होता है। इस काम में आप समाज के विभिन्न वर्गों के बच्चों और महिलाओं की मदद करते हुए उनकी सेवा करते हैं।

स्वस्थ जीवन शैली: इन पदों पर जॉब करने से आप स्वस्थ जीवन शैली बनाने में मदद करते हैं। इस काम में आप बच्चों और महिलाओं को स्वस्थ खाने-पीने की सलाह देते हैं।

संबंध बनाना: इस काम में आप बच्चों और महिलाओं के साथ एक संबंध बना सकते हैं जो आपको उन्हें बेहतर समझने में मदद करता है।

सीखने का मौका: इन पदों पर जॉब करने से आप कुछ नया सीख सकते हैं। आप सीख सकते हैं कि बच्चों और महिलाओं की देखभाल कैसे करते हैं और उन्हें सही ढंग से शिक्षा कैसे देते हैं।

आंगनवाड़ी केंद्रों में कार्यकर्ता, मिनी कार्यकर्ता और सहायिका पदों के नुकसान क्या है ?

आंगनवाड़ी केंद्रों में कार्यकर्ता, मिनी कार्यकर्ता और सहायिका पदों के कुछ नुकसान हो सकते हैं, जैसे कि इन पदों पर नियुक्ति अस्थाई होती है और अधिकतर केंद्र सरकार द्वारा चलाए जाते हैं, जिससे कार्यकर्ता या सहायिका को स्थायी रोजगार की सुविधा नहीं मिलती है। इसके अलावा इन पदों पर वेतन भी कम होता है और काम की भारी दर से सुबह से रात तक तक काम करना पड़ता है। कुछ आंगनवाड़ी केंद्रों में काम करने वाली कार्यकर्ता या सहायिका को अपने काम के लिए उपयुक्त सामग्री और संसाधन भी नहीं मिलते हैं।

जॉब के लिए शैक्षणिक योग्यता क्या होती होती है ?


आंगनवाड़ी केंद्रों में कार्यकर्ता, मिनी कार्यकर्ता और सहायिका पदों पर जॉब के लिए शैक्षणिक योग्यता निम्नलिखित होती है:

  1. कार्यकर्ता (अंगनवाड़ी केंद्र सहायिका): अधिकतम शैक्षणिक योग्यता 10वीं कक्षा पास होना चाहिए।
  2. मिनी कार्यकर्ता (अंगनवाड़ी केंद्र मिनी सहायिका): अधिकतम शैक्षणिक योग्यता 8वीं कक्षा पास होना चाहिए।
  3. सहायिका (अंगनवाड़ी केंद्र सहायिका): अधिकतम शैक्षणिक योग्यता 5वीं कक्षा पास होना चाहिए।

आंगनवाड़ी केंद्रों में कार्यकर्ता, मिनी कार्यकर्ता और सहायिका पदों पर जॉब के लिए physical योग्यता क्या होती होती है ?

यदि आप आंगनवाड़ी केंद्रों में नौकरी के लिए आवेदन करना चाहते हैं, तो आपको उचित शैक्षणिक योग्यता होनी चाहिए। इसके अलावा, नौकरी के अनुभव, कौशल और दक्षता आपके चयन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।आंगनवाड़ी केंद्रों में कार्यकर्ता, मिनी कार्यकर्ता और सहायिका पदों के लिए आमतौर पर कोई खास physical योग्यता की मांग नहीं की जाती है। हालांकि, इन पदों के लिए उम्मीदवारों को दी गई शर्तों को पूरा करना आवश्यक होता है। इसमें आपको आयु सीमा, शारीरिक क्षमता, आवश्यक होने पर मेडिकल सर्टिफिकेट आदि शामिल हो सकते हैं। इसलिए, अगर आप इन पदों के लिए आवेदन करने की सोच रहे हैं, तो आपको आवश्यक शर्तों को पूरा करना होगा।

आंगनवाड़ी केंद्रों में कार्यकर्ता, मिनी कार्यकर्ता और सहायिका पदों के लिए आयु सीमा क्या होती है?

आंगनवाड़ी केंद्रों में कार्यकर्ता, मिनी कार्यकर्ता और सहायिका पदों के लिए आयु सीमा विभिन्न राज्यों में अलग-अलग होती है। आमतौर पर इन पदों के लिए आवेदन करने के लिए उम्मीदवारों की आयु 18 से 44 वर्ष के बीच होनी चाहिए। हालांकि, यह आयु सीमा राज्य सरकार द्वारा निर्धारित की जा सकती है और इसलिए उम्मीदवारों को आधिकारिक अधिसूचना में उल्लेखित आयु सीमा की जांच करनी चाहिए।

आंगनवाड़ी केंद्रों में कार्यकर्ता, मिनी कार्यकर्ता और सहायिका पदों पर जॉब के लिए सैलरी कितनी मिलती है?

आंगनवाड़ी केंद्रों में कार्यकर्ता, मिनी कार्यकर्ता और सहायिका पदों के लिए सैलरी राज्य शासन द्वारा तय की जाती है और यह राज्य से राज्य तक भिन्न हो सकती है। इसलिए सैलरी की गणना स्थानीय अधिकारियों द्वारा की जाती है।

इन पदों पर काम करने वालों को वेतन, महीने की आधार पर दिया जाता है। वेतन की धनराशि राज्य से राज्य भिन्न होती है लेकिन आमतौर पर यह रुपए 5,000 से रुपए 15,000 तक होती है। इसके अलावा, कुछ राज्यों में काम करने वालों को अन्य लाभ भी प्रदान किए जाते हैं जैसे कि स्कीमों, मुफ्त खान-पान, मुफ्त चिकित्सा सुविधाएं आदि

सेवानिवृत्ति,पेंशन के उपरान्त क्या मिलता है?

आंगनवाड़ी केंद्रों में कार्यकर्ता, मिनी कार्यकर्ता और सहायिका पदों के लिए रिटायरमेंट की उम्र 60 वर्ष होती है। जब एक कार्यकर्ता या सहायिका इस उम्र को पूरा करती है तो उन्हें सरकारी रूप से सेवानिवृत्ति दी जाती है और उन्हें पेंशन के रूप में धन राशि दी जाती है। आंगनवाड़ी केंद्रों में कार्यकर्ताओं और सहायिकाओं को रिटायरमेंट के बाद भी नियमित रूप से पेंशन दी जाती है ताकि वे अपने बढ़ते हुए आयु के समय में भी आराम से जीवन जी सकें।

Every teacher is respectful

जॉब के लिए आवेदन कहाँ करे?


आप आंगनबाड़ी केंद्रों में कार्यकर्ता, मिनी कार्यकर्ता, सहायिका जैसे पदों के लिए निकाले गए नौकरी विज्ञापनों को स्थानीय अख़बारों, रोजगार समाचार, आंगनबाड़ी केंद्रों के बोर्ड पर दर्ज करने की सलाह देता हूं।

इसके अलावा, आप रोजगार समाचार वेबसाइटों और सरकारी नौकरी पोर्टलों पर भी इन पदों के लिए निकले गए विज्ञापनों की जांच कर सकते हैं।

इनके अलावा आप स्थानीय रोजगार कार्यालय या स्थानीय प्रशासन के आंगनबाड़ी केंद्रों से भी जानकारी ले सकते हैं। वे आपको इन पदों के लिए नौकरी के बारे में अधिक जानकारी दे सकते हैं और आपको अपना आवेदन पत्र जमा करने के लिए आवश्यक दस्तावेजों की सूची भी दे सकते हैं।

Thanks for visit again

Leave a Comment